CBSE Exam Pattern & Syllabus: स्कूलों में पहले बार जारी हुआ क्रेडिट सिस्टम, पढ़ाई के हिसाब से मिलेंगे अंक

हाल ही में केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड सीबीएसई ने अगले शैक्षणिक सत्र यानी 2024-25 से स्कूल में क्रेडिट सिस्टम लागू करने की योजना बनाई है। इसके तहत कक्षा छठी से लेकर कक्षा 12वीं तक हर कक्षा में पढ़ाई पूरी करने और सीखने में कम से कम 12 घंटे पूरे करने पर छात्र को 40 क्रेडिट अंक मिलेंगे।

ये क्रेडिट सभी विषयों में परीक्षा पास करने पर मिलेंगे और यह मार्कशीट में अंक ग्रेड के सामने दर्ज होंगे। साथ ही छात्र के एकेडेमिक बैंक आफ क्रेडिट में भी जमा होते रहेंगे। अभी तक ऐसा क्रेडिट सिस्टम उच्च शिक्षा में लागू है जिसके जरिए छात्रों को संस्थान या कोर्स बदलने की सहूलियत होती है।

नेशनल क्रेडिट फ्रेमवर्क के अनुसार दसवीं पास छात्र को क्रेडिट लेवल 3 और 12वीं पास छात्र को क्रेडिट लेवल 4 कहा जाएगा। ग्रेजुएट को लेवल 6 पोस्टग्रेजुएट को लेवल 7 और पीएचडी को लेवल 8 माना जाता है।

सीबीएसई के प्रस्ताव के अनुसार कक्षा 9वी में दसवीं और कक्षा ग्यारहवीं व 12वीं के छात्रों के लिए मौजूदा 5-5 विषयों के स्थान पर 10 से 6 विषय अनिवार्य होंगे, जिसमें सेकेंडरी स्तर पर दो भारतीय भाषाएं सहित तीन भाषा विषय और सेकेंडरी स्तर पर एक भारतीय भाषा सहित दो भाषा विषय होंगे।

कक्षा तीसरी से कक्षा छठी तक और कक्षा नौवीं एवं 11वीं के लिए एनसीईआरटी की नई किताबें सत्र 2024-25 के शुरू होने के पहले जारी करने की तैयारी हैं। सीबीएसई 10वीं और सीबीएसई 12वीं कक्षा में सेमेस्टर सिस्टम के साथ दो बार बोर्ड परीक्षाएं करवा सकता है।

क्रेडिट सिस्टम से छात्र आसानी से सब्जेक्ट बदल सकेंगे। इसका मकसद अकादमिक सत्र पर व्यावसायिक व सामान्य शिक्षा के बीच बराबरी लाना है।

पूरी जानकारी यहा से पढ़े:- क्लिक करे

Leave a Comment